Empowering Lives: The Badlav Story Part 3 (in Hindi)


बदलाव को पहली सफलता तब मिली जब शरद ने 2 भिखारियों को रिक्शा दिलाने में मदद की। शरद ने अपनी बचत से ५०० रूपए जमा करके रिक्शा किराए पर लिया। जब इन लोगों ने रिक्शा चलाने को सम्मानपूर्वक और निरंतर रूप से पैसा कमाने के तरीके के रूप में देखा, तो और अधिक लोगों ने ये मार्ग अपनाना शुरू किया, और नए लोग भी शरद के पास मदद के लिए आने लगे । अपने लोगों में से कुछ लोंगो को आत्मनिर्भर बनाते देख, एक लहर सी आयी और धीरे-धीरे, बदलाव ने विस्तार हुआ और 9 भिखारियों की मदद करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे, ये लोग मोबाइल फोन खरीदने के लिए पर्याप्त पैसा कमाने लगे। कई दिन ये लोग 50-60 रूपए कमाते, जो औसत भीख की कमाई से कम हैं, पर इसके बावजूद ये लोग संतुष्ट थे, क्योंकि यह धन उन्होंने स्वयं अर्जित किया गया था।


हालाँकि, अभी भी एक और चुनौती थी जिसका सामना इन लोगों को करना पड़ रहा था, की उनके पास रहने के लिए कोई जगह नहीं थी। इसलिए, उन्हें फुटपाथों पर रहना पड़ता था, जिसके कारण अक्सर रात में पैसे चोरी हो जाते थे, और अक्सर स्वास्थ्य समस्याएं भी होती थीं।


इन चुनौतियों के बावजूद, शरद लगातार काम करते रहे । उन्होंने ये जाना की कोई भी भिकारी अपने आप सरकारी आश्रय घर नहीं जा सकता था। उसे पुलिस द्वारा भीख मांगने के आरोप में गिरफ्तार कर और मजिस्ट्रेट सजा के तौर पर इन आश्रय घरों में रखने के लिए कहे तब भी कोई भिकारी आश्रय घर में रह सकता था । मूलरूप से, आश्रय घरों को भीख मांगने के अपराध के लिए जेल के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा था। प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत सरकारी आश्रयों में रहने के लिए, शरद ने 400 से अधिक भिखारियों की मदद की। ऐसी दौरान , चार भिखारी शरद के साथ इस आंदोलन में शामिल हुए हैं, और उन्होंने नाटकों के माध्यम से अन्य भिखारियों के बीच जागरूकता फैलाना शुरू किया । शरद द्वारा शुरू की गई यह यात्रा एक श्रृंखला बन गई थी, जहां जो लोग इससे लभभन्वित हुए, वो अब दूसरे भिखारियों के पुनर्वास में मदद करने लगे ।

शरद ने हमेशा 'काम सीखने' को महत्व दिया हैं, न कि पैसा कमाने की। उन्होंने भिखारियों को अपने मौजूदा नेटवर्क के साथ जोड़ा, जिसमे जूस स्टॉल, चाय के ढाबों और अन्य सूक्ष्म व्यवसायों को जीवन यापन के साधन के रूप अपनाया हैं । इस पहल ने भिखारियों को कुशल बनने, कुछ पैसे कमाने और अपने सूक्ष्म व्यवसायों को चलाने में सक्षम बनाया ।


“शरद भाई मेरे लिए भगवान की तरह हैं। मेरे माता-पिता सब्जी विक्रेता थे। मैंने उन्हें कमाने के लिए हमेशा मेहनत करते देखा है। मैं भीख कैसे माँग सकता था? लेकिन मैं असहाय था। मैं हर दिन शरद भाई की सलामती की प्रार्थना करता हूं। ”, श्रवण ने कहा, जो अब आत्मनिर्भर है। शरद का मानना ​​है कि वह केवल एक सूत्रधार की तरह काम करते है और उसे सभी कार्यों के लिए श्रेय नहीं दिया जाना चाहिए। उनका मानना ​​है कि इसका श्रेय उनके भिखारी दोस्तों, उनके परिवार, उनके सहयोगियों और उनके साथी संगठनों को समान रूप से जाता है ।

Contact Us

Address

B 44, Lajpat Nagar 2, New Delhi, India – 110024

Social Collinder Blk, 69 Ayer Rajah Crescent, Level 3, Singapore 139961

Email  

admin@givfunds.com

  • Facebook - White Circle
  • Instagram - White Circle
  • Twitter - White Circle
  • LinkedIn - White Circle

Sign-up for our newsletter!

Our funder who makes this all possible:

Genuine Interest.png